aajkiduniya

Sunday, 10 May 2020

माँ क्या होती हैं ?

                                                       माँ 
   माँ  वो होती है जो बिना किसी स्वार्थ  के अपने बच्चो  से इतना  प्यार और बच्चो के लिए  त्याग करती  है। जिसको कभी  बच्चे अपने पुरे जीवनकाल में भी चूका नहीं सकते है , माँ प्यार की चरम सीमा है | माँ  घरो में या घर के बाहर अनेक  पीड़ा और यातनाए सहते  हुए  भी बच्चो के प्रति प्यार,  दुलार कम नहीं  करती  है। माँ प्यार का समुन्दर है जिसमे नामात्र की भी प्यार की कमी नहीं  होती है। 

  माँ के सम्मान में कुछ चंद पक्तियाँ समर्पित है -  

     माँ ममता  की एक  मिशाल हैं ,
     माँ से मुझको  न कोई सवाल  हैं। 
     जिसकी  बदौलत  मै यहाँ हूँ,
     उसको  भला  क्या आज मलाल हैं। 

                    जो मेरे लिए हर रिस्ता त्यागे
                    दिन  में जागे ,रात को भी जागे। 
                    ऐसी माँ को मेरा सलाम हैं ,
                    जो जिम्मेदारी से, कभी न भागे। 

    बच्चे माँ को बहुत सताते,
    कभी  रुलाते  , तो  कभी हसाते। 
    पर वह  माँ  की, ममता  होती हैं,
    जो कभी बच्चे  को रोने न देती हैं। 
                                    
                   बच्चो  का हर  दुःख  सुख ,
                   माँ अपना समझती हैं ,
                  पर अपनी  पीड़ा,  किसी  से न कहती  हैं।
                   माँ  ही है जो, मेरी आँसू पहचाने,
                   दुनिया भला क्या, मोल इसका जाने। 
   
    निःस्वार्थ भाव  से, त्याग और बलिदान करती,
    बच्चो  के लिए  वह , पूरी दुनिया से लड़ती 
    कर्तव्य समझकर अपना , सबकुछ करती ,
    पर    माँ  को   उम्मीद ,  किसी  से   न   रहती। 
    लेकिन   मुझको   दर्द   बहुत   होती   हैं ,
    जब  किसी  की  माँ   चुपके  से   रोती  है।  
           

                                     धन्यवाद